Meghalaya ki Rajdhani kya hai मेघालय की राजधानी क्या है

0

दोस्तों आज हम इस आर्टिकल में आपको Meghalaya ki Rajdhani kya hai इसके बारे में बताने वाले है क्या आपको भी यह जानकरी जानने में इंट्रेस्ट है तो इस आर्टिकल को पूरा पढ़ने की कोसिस कीजिए ताकि आपको Meghalaya ki Rajdhani kahan hai इसके साथ साथ Meghalaya ki Rajdhani के बारे में भी विस्तार से पता चल सके

Meghalaya ki Rajdhani kya hai

क्यूंकि Meghalaya ki Rajdhani से जुडी बहुत साडी जानकारी इस आर्टिकल में देने की कोसिस किये है ईसिस लिए कोसिस करें इस आर्टिकल को पूरा पढ़ने की ताकि आपको Meghalaya ki Rajdhani kya hai इसके बारे में अच्छे से समझ आ पाए

मेघालय की राजधानी क्या है (Meghalaya ki Rajdhani kya hai)

मेघालय की राजधानी ‘शिलांग’ है। यह क्षेत्र गर्मी के दिनों में बंगाल और असम की राजधानी हुवा करती थी। यह भारत के पूर्व की ओर बसा हुआ है जो ईस्ट खासी हिल्स जिले का मुख्यालय भी है। शिलांग चारों ओर से बड़े बड़े घूमती पहाड़ियों से घिरा हुआ है।

और इसी कारण से ब्रिटिश लोग इसे स्कॉटलैंड आफ द ईस्ट अर्थात के नाम से भी पुकारा करते थे क्योंकि इस जगह को देख कर ब्रिटिश लोगों को स्कॉटलैंड की स्मरण होने लगती थी। मेघालय पहले असम राज्य का ही भाग था जब 21 जनवरी 1972 को असम के गारो, खासी, और जैन्तिया पर्वतीय जिलों को काटकर मेघालय राज्य का गठन किया गया तो इस राज्य की राजधानी शिलांग को स्थापित कर दिया गया।

यानी कि 21 जनवरी 1972 को शिलांग को भारत के नवनिर्मित राज्य मेघालय की राजधानी स्थापित कर दी गई। इस से पहले शिलांग असम की राजधानी थी। जब शिलांग को मेघालय की राजधानी बना दी गई तो असम ने अपनी राजधानी दिसपुर को स्थापित कर लिया।

Most Read:- Gujarat ki Rajdhani kya hai | गुजरात की राजधानी क्या है

1864 में अंग्रेजों द्वारा खासी और जयंतिया हिल्स का सिविल स्टेशन बनाए जाने के बाद से शिलांग का आकार लगातार बढ़ते ही चला गया। इस शहर की मुख्य भाषा खासी है परंतु यहाँ की राजकीय भाषा अंग्रेजी है। भारत का एकमात्र राज्य मेघालय है जिसकी राजकीय भाषा अंग्रेजी है।

Meghalaya की राजधानी का भूगोल

यह भारत के एक पूर्वी राज्य मेघालय की राजधानी है जो अपने भौगोलिक स्थिति 25°34′N 91°53′E / 25.57°N 91.88°E पर शिलांग पठार पर स्थित है। यह शहर चारों ओर से पहाड़ियों से घिरा हुआ है और यह इसके मध्य में स्थित है। समुद्र तल से इस शहर की ऊंचाई 1495-1965 मीटर यानी कि 4908-6449 फीट है।

गुवाहाटी शहर से शिलांग शहर की दूरी मात्र 100 किलोमीटर है। अगर बात किया जाए इस शहर का मौसम के बारे में यहाँ का मौसम प्रायः सुखद एवं प्रदूषण मुक्त रहता है। गर्मियों में इस शहर का तापमान लगभग 23 डिग्री सेल्सियस (73 डिग्री फारेनहाइट) तक रहता है और वहीं सर्दियों के मौसम में यहाँ का तापमान 4 डिग्री सेल्सियस (39 डिग्री फारेनहाइट) तक पहुंच जाता है।

शहर में एक उपोष्णकटिबंधीय उच्चभूमि जलवायु भी है जिसकी ग्रीष्मकाल ठंडी और बहुत बारिश वाली होती है और जबकि इस समय इस क्षेत्र की सर्दियाँ ठंडी होने के बावजूद भी शुष्क होती हैं। शिलांग में मानसून का प्रारंभ जून के महीने में होता है और अक्टूबर महीने के अंत तक इस क्षेत्र में बारिश होते रहती है।

Meghalaya की राजधानी की जनसंख्या और क्षेत्रफल

जनसंख्या:- 2011 में हुई भारतीय जनगणना के अनुसार मेघालय राज्य की राजधानी शिलांग का जनसंख्या 143,229 है जिसमे से पुरुषों की जनसंख्या 70,135 तथा स्त्रियों की जनसंख्या 73,094 है। कुल जनसंख्या का 14,317 व्यक्ति 6 वर्ष के कम उम्र के है। अगर बात की जाए इस शहर की औसत साक्षरता डर की तो यहाँ का औसत साक्षरता दर 92.81 % है जिसमे से पुरूष साक्षरता दर 94.80 % और स्त्री साक्षरता दर 90.92 % है।

इस शहर की अनुसूचित जनजातियों की जनसंख्या लगभग 1,551 है और वहीं इस शहर में जनजातियों की जनसंख्या 73,307 है। शिलांग में अधिकांश लोग खासी नामक जनजाति के हैं। खासी जनजाति के बारे में विशेष बात यह है कि यहाँ पर महिला को घर का मुखिया माना जाता है। शिलांग शहर की लिंगनुपात 1042 है और बात किया जाए बाललिंगानुपात की तो यह 936 है।

शिलांग शहर में अधिकतर जनसंख्या ईसाइयों की है जो कुल जनसंख्या का 46.49% है। यानी का यहाँ अधिकतर लोग ईसाई धर्म को मानते है। यहाँ की दूसरी सबसे बड़ी जनसंख्या हिन्दू धर्म मानने वालों की है जो कुल जनसंख्या का 41.95% है। इसके बाद मुस्लिम समुदाय को मानने वाले लोगों की जनसंख्या कुल जनसंख्या का 4.89% है। कुल जनसंख्या का 1.14% सिख धर्म, 0.74% बौद्ध धर्म, और 0.13% जैन धर्म के अनुयायी है। और 0.16% लोग निधर्मी है। कुल जनसंख्या का 4.50% शेष बचता है जो अन्य धर्मों के अनुयायी है।

क्षेत्रफल:- भारत के मेघालय राज्य की राजधानी शिलांग का क्षेत्रफल 64.36 वर्ग किलोमीटर यानी कि लगभग 24.85 वर्गमील है जिसे तो चाहे को इस पूरे क्षेत्र को पैदल ही घूम सकते है। इस शहर का जनसंख्या घनत्व 234 वर्ग किलोमीटर यानी कि 610 वर्गमील पर 1000 व्यक्ति है। अगर कहा जाए तो शिलांग एक छोटा सा शहर है।

Most Read:- West Bengal ki Rajdhani Kya hai | पश्चिम बंगाल की राजधानी क्या है?

भाषा:- 2011 में हुई जनगणना के रिपोर्ट के अनुसार यहाँ कुल आबादी के 67,154 आबादी  यानी कि लगभग 46.88% आबादी खासी भाषा बोलते है और यह भाषा इस क्षेत्र का मुख्य भाषा है। कहा जाए तो यह मेघालय राज्य की अंग्रेजी भाषा के बाद सबसे अधिक प्रचलित भाषा है।

इस शहर में खासी के बाद बंगला भाषा को अधिक बोली जाती है। इस शहर के कुल जनसंख्या का 20.23% आबादी यानी कि लगभग 28,984 लोग बंगाली भाषा को बोलते है। इसके बाद आता है हिंदी बोलने वाले लोगों की संख्या जो कुल जनसंख्या का 10.86% आबादी यानी कि लगभग 15,559 आबादी ही है। मेघालय राज्य नेपाल की सीमा को छूती है। इसलिए इस राज्य की राजधानी शिलांग में बहुत से ऐसे लोग है जो नेपाली भाषा को बोलते है।

इस शहर में 14,085 आबादी यानी कि कुल जनसंख्या का 9.83% आबादी केवल नेपाली भाषा का प्रयोग करते है। यह भाषा हिंदी भाषा के बाद यहाँ सबसे अधिक बोली जानी वाली भाषा है। यहाँ 4,069 लोग यानी कि कुल आबादी का 2.84% आबादी असमिया भाषा बोलती है और वहीं 3,580 लोग यानी कि कुल 2.50% आबादी गारो भाषा का प्रयोग करते है।

यहाँ बहुत से लोग पंजाबी भी है जो अपनी भाषा को नही भूले। यानी कि यहाँ भी 2,632 लोग अर्थात कुल आबादी का 1.83% आबादी पंजाबी भाषा बोलते है। यहाँ उर्दू बोलने वालों की जनसंख्या 0.76% है यानी कि मात्र 1,088 लोग ही यहाँ पर उर्दू भाषा के प्रयोग करते है। शिलांग शहर में और भी कई प्रकार के भाषाएँ बोली जाती। इन सभी भाषावों को छोड़कर शेष 4.27% लोग यानी कि 6,115 लोग अन्य भाषा का प्रयोग करते है। यह रिपोट 2011 में जारी की गई थी जब भारत मे जनसंख्या जनगणना हो रही थी।

मेघालय की राजधानी की शिक्षा

अगर बात की जाए इस शहर की शिक्षा व्यवस्था की तो यह काफी अच्छी है। यहाँ भी कई सारे विद्यालय, महाविद्यालय, और विश्वविद्यालय है जहाँ से निम्न स्तरीय शिक्षा से लेकर उच्च स्तरीय शिक्षा तक ग्रहण कर सकते है। बहुत से ऐसे लोग होते है जो यहाँ पर अपनी पढ़ाई पूरी करने के लिए आते है।

विश्वविद्यालय:- चेरापुंजीड कालेज, शिलांग कालेज, वूमेन्स कालेज, शिलांग कामर्स कालेज, लेडी कीन कॉलेज, सेंट एन्थोनी’ज़ कॉलेज, एड लबान कालेज, रेड लाबान कॉलेज, लेडी कियाने कालेज, सेंट एड्मण्ड्ज़ कॉलेज, सेंट एन्थोनी कालेज, सेंट मैरी कालेज, सेंग खासी कालेज, शंकरदेव कालेज आदि सब शिलांग शहर में ही स्थित महाविद्यालय है।

विधि महाविद्यालय:- शिलांग लॉ कालेज इस शहर का विधि महाविद्यालय है। और पूर्वोत्तर इंदिरा गांधी क्षेत्रीय स्वास्थ्य एवं चिकित्सा संस्थान इस शहर का चिकित्सा महाविद्यालय है।

स्वायत्त संस्थान:- यहाँ पर स्वायत्त संस्थान भी स्थित है जैसे राष्ट्रीय फैशन टेक्नालॉजी संस्थान, भारतीय प्रबंधन संस्थान, राष्ट्रीय फैशन टेक्नालॉजी संस्थान, भारतीय प्रबंधन संस्थान, पूर्वोत्तर आयुर्वेद एवं होम्योपैथी संस्थान।

केंद्रीय विश्वविद्यालय:- अंग्रेजी और विदेशी भाषाओ का केन्द्रीय संस्थान तथा पूर्वोत्‍तर पर्वतीय विश्‍वविद्यालय यहाँ के प्रसिद्ध केंद्रीय विश्वविद्यालय है।

निजी विश्वविद्यालय:- मार्टिन लूथर क्रिश्चियन युनिवर्सिटी, सीएमजे विश्वविद्यालय, टेक्नो ग्लोबल विश्वविद्यालय, विलियम कैरे विश्वविद्यालय, तथा प्रौद्योगिकी एवं प्रबंधन विश्वविद्यालय इस शहर के निजी विश्वविद्यालय है।

Meghalaya की राजधानी की दर्शनीय स्थल

लेडी हैदरी पार्क:- शिलांग के लेडी हैदरी पार्क में फूलों के अनेकों जातियाँ को देखी जा सकती है। यह पार्क विभिन्न प्रकार के फूलों से सुसज्जित है। यह पार्क एक किलोमीटर तक फैला हुआ है जिसे आप पैदल भर्मण करते हुवे देख सकते है। इसके बगल में एक चिड़ियाघर भी है जिसे आप देख सकते है।

शिलांग पीक:- शिलांग पीक मेघालय की सबसे ऊँची जगह है जहाँ से पूरे शिलांग शहर की दृश्य को देख जा सकता है। समुद्र तल से इसकी ऊँचाई 1966 किलोमीटर है। यह एक पिकनिक स्पॉट भी है जहाँ पर लोग दूर दूर से आते है। यह शिलांग शहर से करीब 10 किलोमीटर की दूरी पर है।

कैलांग रॉक:- यह ग्रेनाइट की एक ऊंची और विशाल चट्टान है जो मेरंग-नोखलॉ रोड पर स्थित है। यह एक गोलाकार गुम्बदनुमा चट्टान है और अगर बात की जाए इसकी व्यास की तो यह लगभग 1000 फुट है।

मीठा झरना:- यह झरना शिलांग के हैप्पी वैली से 5 किलोमीटर की दूरी में स्थित है। इसकी रचना पुर्णतः सीधी है और यह बहुत ऊंचा भी है। जब शहर में मॉनसून का आगमन होता है उस समय यहाँ का दृश्य देखने को बानता है। इसकी ऊंचाई 96 मीटर है। इस झरना को देशी बोली में “वेटडेम” भी कहा जाता है।

एलिफेंट फॉल्स:- यह शहर से करीब 12 किलोमीटर की दूरी पर पहाड़ी इलाकों में स्थित है। इस झरने की सुंदरता काफी मनमोहक है। पहाड़ी पर से इस झरने की धारा तीन हिस्सों में बात कर नीचे गिरती है। इसके चारों ओर का वातावरण काफी सुंदर और स्वछ है।

शिलांग गोल्फ कोर्स:- शिलांग गोल्फ कोर्स पूरे एशिया का सबसे बड़ा प्राकृतिक गोल्फ कोर्स है।शिलांग गोल्फ कोर्स जीतना सुंदर और मनोरंजनपूर्ण है उतनी है चुनौतीपूर्ण भी है। इसमे अभी 18 होल कोर्स है जिसका उद्घाटन 1924 में किया गया था। इसमे से सबसे लंबा छेद छठा है होल कोर्स है जो 594 गज का भीषण है।

कैप्टन विलियमसन संगमा राज्य संग्रहालय, स्वदेशी संस्कृतियों के लिए डॉन बॉस्को केंद्र, क्रिसलिस द गैलरी, राज्य संग्रहालय, बिशप और बीडॉन फॉल्स, ईसाईयों की मैरी हेल्प कैथेड्रल, स्प्रेड ईगल फॉल्स, क्रिनोलिन फॉल्स, शिलांग बोरापानी झील, उमियम झील आदि। ऐसे ही शिलांग में और इसके आस पास में बहुत से पर्यटन स्थल है जहाँ लोग अक्सर घूमने और पिकनिक स्पॉट के लिए आते है।

Most Read:- Jharkhand Ki Rajdhani Kya Hai | Capital Of Jharkhand In Hindi

मेघालय की राजधानी की यातायात

सड़कमार्ग:- शिलांग शहर सड़कमार्ग द्वारा अनेकों शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। शिलांग शहर में दो राष्ट्रीय-राजमार्ग गुजरता है। पहला राष्ट्रीय राजमार्ग 40 जो इस शहर को गुवाहटी शहर से जोड़ता है और उसके आस पास स्थित शहरों को भी जोड़ता है।

दूसरा राष्ट्रीय राजमार्ग 44 को इस शहर को त्रिपुरा और मिजोरम के साथ साथ अन्य पूर्वोत्तर भारतीय राज्यों से अच्छी तरह से जोड़ता है। सड़कमार्ग द्वारा कई बसें और टैक्सी यहाँ से आते जाते रहती है जो अनेकों शहरों को जोड़ने का कार्य करती है। सड़क मार्ग द्वारा यहाँ से कहीं भी जाया जा सकता है।

वायुमार्ग:- शिलांग शहर में उचित हवाई कनेक्शन नही है। शहर से करीब 30 किलोमीटर की दूरी पर उमरोई हवाई अड्डा है जहाँ से केवल सीमित उड़ाने ही भारी जाती है। यहां से सन 1917 ईस्वी को जोरहाट एवं कोलकाता के लिए इंडिगो एयरलाइन की शुरुआत की गई थी।

रेलमार्ग:- यहाँ रेलमार्ग की कोई सुविधा नही है। शिलांग शहर से 105 किलोमीटर की दूरी पर गुवाहाटी रेलवे स्टेशन है। भारत की मेघालय राज्य में रेलवे व्यवस्था काफी कमजोर है। यहाँ से रेलमार्ग द्वारा यात्रा करना काफी दैनीय है।

Conclusion

दोस्तों आज हम आपको Meghalaya ki Rajdhani kya hai इसकी जानकारी दिए है क्या आपको ये आर्टिकल पढ़ने के बाद Meghalaya ki Rajdhani kya hai इसके बारे में अच्छे से समझ में आ गया यदि अभी भी कोई जानकारी जननी की है तो हमें कम्मेंट में जरूर पूछे आपको आपका जबाद जरूर दिया जायेगा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here