Mizoram ki Rajdhani kya hai | मिजोरम की राजधानी क्या है

0

Mizoram ki Rajdhani kya hai यह हम आपको अभी बताने वाले है की मिजोरम की राजधानी क्या है और मिजोरम की राजधानी में क्या क्या है यानि Mizoram से जुडी बहुत सारी जानकारी देने वाले है यदि आपको भी Mizoram ki Rajdhani kahan hai ये जानने में इंट्रेस्ट है तो इस आर्टिकल को पूरा पढ़े

Mizoram ki Rajdhani kya hai

क्यूंकि अभी हम आपको मिजोरम की राजधानी की जनसंख्या और क्षेत्रफल और इसके साथ मिजोरम की राजधानी की इतिहास के बारे में भी बताने वाले है इसी लिए यदि आप यह जानने में इंट्रेस्ट रखते है की Mizoram ki Rajdhani kya hai तो इस आर्टिकल को आपको पूरा पढ़ना चाहिए

मिजोरम की राजधानी क्या है | The Capital of Mizoram 

भारत राज्य मिजोरम की राजधानी आइजोल है। आइजोल मिजोरम राज्य के एक जिला है जिसका मुख्यालय भी आइजोल ही है। आइजोल शहर मिजोरम राज्य का सबसे बड़ा शहर है। जब मिजोरम को 20 फ़रवरी 1987 को पूर्ण राज्य का दर्जा मिला तो आइजोल शहर को मिजोरम की राजधानी के रूप में स्थापित कर दिया गया।आइजोल शहर को आधिकारिक तौर पर 25 फरवरी 1890 को स्थापित किया गया था। इस शहर का आधिकारिक बोली मिज़ो है।

मिजोरम की राजधानी की जनसंख्या और क्षेत्रफल

जनसंख्या:- वर्ष 2011 में हुई जनगणना के अनुसार मिजोरम की राजधानी आइजोल की जनसंख्या लगभग 293416 है जिसमे से पुरुषों की आबादी कुल जनसंख्या का 49.39% है और महिलाओं की आबादी कुल जनसंख्या का 50.61% है। आइजोल शहर में भिन्न भिन्न लोग भिन्न भिन्न धर्मों का अनुसरण करते है।

इस शहर में सबसे अधिक जनसंख्या इसाई धर्म मानने वालों की है। यहाँ पर कुल जनसंख्या का 93.63% आबादी इसाई धर्म का अनुसरण करते है। 4.14% आबादी हिन्दू धर्म को मानते है। वहीं इस्लाम धर्म को मानने वालों की जनसंख्या कुल जनसंख्या का 1.52% है। और इस शहर में कुल जनसंख्या का 0.45% बौद्ध धर्म, 0.03% सिख धर्म, 0.02% जैन धर्म और 0.09% आबादी अन्य धर्मों की उपासना करते है। 0.11% लोगों ने अपने धर्म के बारे में नही बताए है।

Most Read:- Nagaland ki Rajdhani kya hai | नागालैंड की राजधानी क्या है

यहाँ पर मिज़ो जनजाती की जनसंख्या सबसे अधिक है। साथ ही सेवेंथ-डे एडवेंटिस्ट, रोमन कैथोलिक, प्रेस्बिटेरियन, बैपटिस्ट और यूनाइटेड पेंटेकोस्टल चर्च की भी जनसंख्या काफी अधिक है। इस शहर का लिंगानुपात 1025 महिला प्रति 1000 पुरुष है वहीं यहाँ का जनसंख्या घनत्व 234 व्यक्ति प्रति वर्ग किलोमीटर है। इस शहर का साक्षरता दर 98.35% है जो राष्ट्रीय साक्षरता दर 74.04 (2011 जनगणना के अनुसार) से भी अधिक है।

क्षेत्रफल:- मिजोरम की जिला आइजोल का कुल क्षेत्रफल 3,577 वर्गकिलोमीटर है जिसमे से 457 वर्गकिलोमीटर यानी कि लगभग 176 वर्गमील तक का क्षेत्रफल मिजोरम राज्य की राजधानी आइजोल के अंतर्गत आता है।

Mizoram की राजधानी का इतिहास

इस पूरे इलाके का मिज़ो प्रमुख ने 1871-72 ईस्वी के बीच में ब्रिटिश लोगों को सैरंग से 14 किलोमीटर की दूरी पर एक चौकी स्थापित करने के लिए विवस किया और धीरे धीरे इस क्षेत्र का आबादी बढ़ते गया और बाद में यहाँ एक गांव बस गया।

इसी क्षेत्र को किलेबंद चौकी के स्थान के रूप में चुना गया था जब सन् 1890 ईस्वी को असम के पुलिस के अधिकारी डेली अपने 400 लोगों के साथ मिज़ो आदिवासियों के खिलाफ एक ब्रिटिश सैन्य अभियान के समय कर्नल स्किनर के सैनिकों का मदद करने को गए थे। इस चौकी का निर्माण असम पुलिस अधिकारी डेली के मांग पर, कर्नल स्किनर के द्वारा बनाया गया था।

1966 ईस्वी तक आइजोल मात्र एक गांव था परंतु मार्च 1966 में हुवे मिज़ो नेशनल फ्रंट विद्रोह के बाद आइजोल एक शहर का रूप ले लिया और फिर यह क्षेत्र काफी विकसित हुवा जो आज मिजोरम की राजधानी है।

मिजोरम की राजधानी का भूगोल

आइजोल शहर मिजोरम राज्य के उत्तरी भाग में स्थित है और कर्क रेखा के भी उत्तरी भाग में ही है। समुद्र तल से इसकी ऊंचाई 1,132 मीटर यानी कि लगभग 3715 फीट है। आइजोल शहर के पूर्व में तूईरियल नदी घाटी एवं पश्चिम में त्लावंग नदी घाटी स्थित है। आइजोल शहर की जलवायु आर्द्र उपोष्णकटिबंधीय जलवायु है।

गर्मियों में यहाँ की जलवायु 20 डिग्री से 30 डिग्री सेल्सियस यानी कि 68 से 86 डिग्री फारेनहाइट तक पहुंच जाती है तो वहीं ठण्ड में यहाँ का तापमान 11 से 21 डिग्री सेल्सियस यानी कि 52 से 70 डिग्री फारेनहाइट तक होती है। इस क्षेत्र में वर्षा ऋतु का आगमन अप्रैल में ही हो जाता है जो अक्टूबर तक रहती है। यहाँ सबसे अधिक वर्षा मई, जुलाई, अगस्त और सितंबर में होती है। अगस्त के महीने में यहाँ औसत वर्षा 338.7 मिलीमीटर तक होती है।

मिजोरम की राजधानी का शिक्षा व्यवस्था

आइजोल शहर में शिक्षा की व्यवस्था बहुत अच्छी है। यहाँ भी अनेकों प्राइवेट और सरकारी स्कूलों, महाविद्यालय, आदि का निर्माण करवाया गया है जहाँ से बच्चे अपने निम्न स्तरीय शिक्षा से लेकर उच्च स्तरीय शिक्षा को अतिसुविधाजनक के साथ प्राप्त कर सकते है।

Most Read:- Manipur ki Rajdhani kya hai | मणिपुर की राजधानी क्या है

पैरोचियल स्कूल, सेंट पॉल हायर सेकेंडरी स्कूल, सेंट मैरी स्कूल, मैरी माउंट स्कूल, होम मिशन स्कूल, सेंट लॉरेंस स्कूल इत्यादि यहाँ के प्रसिद्ध स्कूल है। 1958 ईस्वी में निर्मित पछुंगा यूनिवर्सिटी कॉलेज, आइजोल शहर का सबसे पुराना और शुरुआती कॉलेजों में से एक है। वहीं आइजोल शहर का दूसरा सबसे पुराना कॉलेज आइजोल कॉलेज है जिसे वर्ष 1975 में स्थापित किया गया था।

आइजोल शहर का हरंगबाना कॉलेज का स्थापना 1980 ईस्वी में की गई थी। यहाँ पर ऐसे भी विद्यालय है जहाँ से स्नातक की डिग्री प्राप्त की जा सकती है जैसे आईसीएफएआई विश्वविद्यालय, मिजोरम, आइजोल नॉर्थ कॉलेज, आइजोल वेस्ट कॉलेज, जे थंकिमा कॉलेज आदि। मिजोरम लॉ कॉलेज, कानून की पढ़ाई के लिए शहर में एक लॉ कॉलेज का निर्माण भी किया गया है जहाँ से कानून की पढ़ाई की जा सकती है।

Mizoram की राजधानी का पर्यटन स्थल

तामदिल झील:- अहा जलाशय आइजोल (Aizawl) शहर से 64 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। इसी जलाशय में वर्ष 2010 को लेप्टोलालेक्स टैमडिल नामक एक और मेढक प्रजाति का वर्णन किया गया था। इस जलाशय की लंबाई करीब 20 किलोमीटर यानी कि 66,000 फीट है। यह झील काफी मनमोहक और सुंदर है जो पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करती है।

डंपा टाइगर रिजर्व:– यह लुशाई हिल्स पर लगभग 800 से 1,100 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है जो लगभग 500 वर्गकिलोमीटर तक फैला हुआ है। इसे सन् 1994 में टाइगर रिजर्व घोषित कर दिया गया था। इस जंगल का अभ्यारण करना काफी जटिल है। यह आइजोल शहर के निकट ही है।

मिजोरम राज्य संग्रहालय:- यह आइजोल शहर में ही स्थित है। यहाँ पर मिजोरम राज्य के संस्कृति, वस्त्र गैलरी, मानव विज्ञान, नृवंशविज्ञान गैलरी, जूलॉजी गैलरी, इतिहास गैलरी, पुरातत्व टेरेस आदि सब को देख जा सकता है। यहाँ पर काफी पर्यटम घूमने के लिए आते है।

रीईक:- 1600 मीटर की ऊंचाई पर स्थित यह पहाड़ी को मिज़ोरम की सबसे ऊँची पहाड़ी के रूप में जाना जाता है। यहाँ का वातावरण काफी मनमोहक और शांत है। इस पहाड़ी के ऊपर से विभिन्न क्षेत्रों को देख जा सकता है जो अत्यधिक मनमोहक होते है।

हमूइफांग:- यह आइजोल शहर के दक्षिण में 50 किमी की दूरी पर स्थित है। यह करीब 1619 मीटर ऊंचा है। यह आइजोल शहर का सबसे प्रसिद्ध और अछूता स्थान है जिसे देखने के लिए लोग अलग अलग राज्यों से भी आते है।

केवी पैराडाइज़:- आइजोल का केवी पैराडाइज़ एक प्रसिद्ध स्मारक है। इसे आइजोल के ताजमहल के रूप में भी जानते है। यह महल पर्यटकों को काफी आकर्षित करती है। बहुत से पर्यटकों यहाँ पर मनोरंजन के साथ साथ घूमने के लिए आते है।

फावनग्पुई पीक:- इस चोटी पर नीले खूबसूरत पहाड़ को देख जा सकता है जो काफी सुंदर प्रतीत होते है। फावनग्पुई पीक मिजोरम की राजधानी आइजोल से लगभग 300 किमी की दूरी पर स्थित है। यह स्थान काफी अद्भुत लगती है। यहाँ का वातावरण भी शांत और सुशील रहती है।

सोलोमन मंदिर:- आइजोल में स्थित इस मंदिर को मिजोरम राज्य का सबसे प्रसिद्ध और सबसे बड़े मंदिरों में से एक माना जाता है। यहाँ पर अक्सर लोग दर्शन अभिलाषा से आते है। मंदिर में बने होल में एक साथ करीब 2000 से भी अधिक लोग बैठ सकते है।

फ़ालकावन् गांव, साल्वेशन आर्मी मंदिर, डर्टलैंग हिल्स, वंटावंग फॉल्स, बेरवाटलंग टूरिस्ट कॉम्प्लेक्स, टैम झीलइसी पार्कर से मिज़ोरम की राजधानी आइजोल में भी अनेकों प्रकार के पर्यटन स्थल है जहाँ पर लोग भिन्न भिन्न राज्यों से घूमने के लिए आते है।

मिजोरम की राजधानी का यातायात

वायुमार्ग:- लेंगपुई हवाई अड्डा, आइजोल शहर का निकटतम हवाई अड्डा है जो इस शहर को वायुमार्ग द्वारा गुवाहाटी लोकप्रिय गोपीनाथ बोरदोलोई अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे, शिलांग हवाई अड्डे, कोलकाता नेताजी सुभाष चंद्र बोस अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे, इम्फाल हवाई अड्डे को जोड़ता है। लेंगपुई हवाई अड्डा की सेवा में एयर इंडिया एयरलाइन बनी रहती है। आइजोल का हवाई अड्डा अनेकों बड़े शहरों से जुड़ा हुवा है।

सड़कमार्ग:- सड़क मार्ग द्वारा आइजोल शहर की यात्रा किया जा सकता है। इसके लिए अपनी निजी कारों या टैक्सी और बसों का मदद ले सकते है। आइजोल शहर से राष्ट्रीय राजमार्ग 40 गुजरती है जो अगरतला शहर को सड़कमार्ग द्वारा जोड़ती है वहीं राष्ट्रीय राजमार्ग 150 के माध्यम से इम्फाल शहर जुड़ा हुआ है। राष्ट्रीय राजमार्ग 540 आइजोल शहर को सिलचर से जोड़ती है। सड़कमार्ग द्वारा आइजोल शहर काफी सुविधाजनक के साथ पंहुचा जा सकता है।

रेलमार्ग:- पूरे मिजोरम राज्य में रेलवे स्टेशन नही है। अर्थात आइजोल शहर रेलमार्ग द्वारा जुड़ा हुवा नही है। सिलचर रेलवे स्टेशन के द्वारा आइजोल शहर पहुंच जा सकता है। मिजोरम शहर में भी रेलवे लाइन की व्यवस्था की जा रही है।

Most Read:- Gujarat ki Rajdhani kya hai | गुजरात की राजधानी क्या है

Conclusion

दोस्तों आज की इस आर्टिकल में हम आपको Mizoram ki Rajdhani kya hai इसकी जानकारी दिए है क्या यह आर्टिकल पढ़ने में आपको मजा आया यदि इस आर्टिकल के माधियम से आपको कुछ सीख मिली होगी तो इसे अपने साथिओं को जरूर शेएर करें ताकी उन्हें भी इसके बारे में अच्छे से पता चल सके

उम्मीद करता हूँ की Mizoram ki Rajdhani kya hai ये आर्टिकल आपको पसंद आई होगी क्यूंकि हम बहुत अच्छे से बताने की कोसिस किये है की Mizoram ki Rajdhani kahan hai

धन्यवाद.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here