Manipur ki Rajdhani kya hai | मणिपुर की राजधानी क्या है

0

दोस्तों आज हम आपको Manipur ki Rajdhani kya hai इसकी पूरी जानकारी देने की कोसिस करेंगे क्यूंकि बहुत सारे स्टूडेंट का ये सवाल होता है की Manipur ki Rajdhani kya hai और मणिपुर में क्या क्या है या मणिपुरी के बारे में जानने में बहुत इंट्रेस्ट लेते है इसी लिए इस आर्टिकल के माधियम से हम आपको मणिपुर की राजधानी क्या है इसके बारे में बहुत ही विस्तार से बताने वाले है

Manipur ki Rajdhani kya hai

अभी हम मणिपुर की क्षेत्रफल और जनसंख्या के बारे में भी जानेगे इसके साथ मणिपुर की कुछ इतिहास के बारे में भी जानेगे और यह भी जानने की कोसिस करेंगे की मणिपुरी में शिक्षा की सुविधा कितनी अच्छी है आई पहले जान लेते है Manipur ki Rajdhani kya hai

मणिपुर की राजधानी इंफाल है। यह मणिपुर मध्य ज़िले का प्रशासनिक मुख्यालय भी है। इंफाल उत्तर पूर्वी भारत में पूरी तरह से सिमटा हुआ है और यह एक छोटा सा शहर है।

Manipur की क्षेत्रफल और जनसंख्या

इम्फाल शहर का कुल क्षेत्रफल 1228 वर्गकिलोमीटर है जो पूरी तरह से पहाड़ी इलाकों से गिरा है।

जनसंख्या:– 2011 में हुई जनगणना के अनुसार मणिपुर की राजधानी इम्फाल शहर की कुल जनसंख्या 4,14,288 है वहीं अगर बात केवल यहाँ की शहरी जनसंख्या की जाए तो यह लगभग 2,77,196 है। 2011 में हुई जनगणना के अनुसार शिलांग शहर जनसंख्या के हिसाब से भारत का 169वाँ सबसे बड़ा शहर है। इम्फाल शहर का लिंगनुपात 1052 है और यहाँ की साक्षरता दर 90.8 प्रतिशत है जो कि राष्ट्रीय साक्षरता दर 74.04 (2011 जनगणना के अनुसार) से अधिक है।

हम जानते है कि इम्फाल शहर दो जिलों इंफाल पश्चिम और इंफाल पूर्व के बीच विभाजित है। इस शहर का सबसे छोटा हिस्सा इंफाल पूर्व जिले में है और इम्फाल शहर का बड़ा हिस्सा इंफाल पश्चिम जिले में है। जब जनगणना की जाती है तो दोनों जिलों की जनगणना अलग अलग होती है फिर इसे एकत्रित की जाती है।

Most Read:- India Ki Rajdhani Kya Hai | भारत की राजधानी कहाँ पर है

वर्ष 2011 में हुई जनगणना के अनुसार पूर्वी इम्फाल की जनसंख्या 83,737 है और पश्चिम इम्फाल की जनसंख्या 1,93,459 है। इस प्रकार 2011 जनगणना के अनुसार इम्फाल शहर की कुल जनसंख्या 2,77,196 है। पश्चिम इम्फाल में कुल जनसंख्या का 8.59% (लगभग 16,618 आबादी) अनुसूचित जनजाति और 0.56% (लगभग 1,083 आबादी) अनुसूचित जाति वास करते है वहीं पूर्वी इम्फाल में कुल जनसंख्या का 15.71% (लगभग 13,155 आबादी) अनुसूचित जनजाति और 0.24% (लगभग 200 आबादी) अनुसूचित जाति वास करते है।

Manipur की इतिहास

ब्रिटिश साम्राज्य के अधीन होने से पहले इंफाल क्षेत्र में मणिपुर की राजाओं के अधीन था। जब इतिहास को देखा जाता है तब जानकारी मिलती है कि सबसे पहले मणिपुर की राजधानी इम्फाल में किन खाबा का शासन था और इसके बाद इम्फाल शहर पखंगबा नेताओं के अधीन हो गया। जब इम्फाल शहर में महाराजा भाग्यचंद्र का शासन था तब कई बर्मी आक्रमण हुवे थे।

इस आक्रमण की स्थिति यहाँ तक पहुंच गई थी कि यह शहर सीघ्र ही पतन हो जायेगा परन्तु महाराजा गंभीर सिंह के सहायता से इस शहर को पुनः बचा लिया गया था। इम्फाल शहर 1891 ईस्वी तक शांतिपूर्ण बना रहा है। 1891 ईस्वी के बाद अंग्रेजों ने यहाँ तेजी से अपना रुतबा चलाने लगा और सन 1891 ईस्वी में ही अंग्रेजों ने एंग्लो-मणिपुर युद्ध किया और इस शहर को अपने अधीन कर लिया।

जब संसार में द्वितीय विश्वयुद्ध (1939-1945) चल रही थी उसी समय मार्च और जुलाई 1944 के बीच भारत के मणिपुर राजधानी इंफाल (वर्तमान में), जापान और भारत मे शासन कर रहे ब्रिटिश सरकार आपस मे मुठभेड़ हुवा और आपस में युद्ध किये जिसे इंफाल युद्ध (Battle of Imphal) के नाम से जाना जाता है। यह युद्ध इम्फाल के समीप मेबम लोकपा चिंग में लड़ा गया था जिसे लाल घाटी भी कहा जाता है।

इम्फाल भौगोलिक स्थिति

स्थिति:- मणिपुर की राजधानी इम्फाल 24.8074°N93.9384°E पर स्थित है। इम्फाल शहर की ऊँचाई समुद्र तल से 786 मीटर यानी कि 2,579 फीट है।

जलवायु:- इम्फाल शहर की मुख्य जलवायु आर्द्र उपोष्णकटिबंधीय जलवायु है। इस जलवायु में थोड़ा सा शुष्क सर्दियाँ, और गर्म मानसून का अनुभव होता है। यहाँ जनवरी के महीने सबसे ठंडा होता है। इस महीने में यहाँ का औसत न्यूनतम तापमान 4 डिग्री सेल्सियस अर्थात 39 डिग्री फारेनहाइट तक होती है

वहीं अधिकतम तापमान 22 डिग्री सेल्सियस होती है। इस क्षेत्र में जून सबसे अधिक गर्म महीना होता है। जून में यहाँ का तापमान 21 डिग्री सेल्सियस 29 डिग्री सेल्सियस तक होता है। इस क्षेत्र में करीब 1,320 मिमी यानी कि 52 इंच तक वर्षा होती है।

Manipur की शिक्षा वेवस्था 

इम्फाल शहर में शिक्षा की व्यवस्था काफी अच्छी है। यहाँ भी कई तरह के विद्यालय, महाविद्यालय, और विश्वविद्यालय है जहाँ से अच्छी तरह से निम्न स्तरीय शिक्षा से लेकर उच्च स्तरीय शिक्षा तक कि पढ़ाई की जा सकती है। इम्फाल शहर की शिक्षा व्यवस्था अन्य शहरों को शिक्षा व्यवस्था से काफी अच्छी है। शिक्षा के मामले में यह शहर काफी बेहतर है।

विद्यालय:- लिटिल फ्लावर स्कूल, लोडस्टार पब्लिक स्कूल, सैनफोर्ट इंटरनेशनल स्कूल एंड कॉलेज इंफाल, सेंट एंथोनी इंग्लिश स्कूल एंड कॉलेज इंफाल,केन्द्रीय विद्यालय नंबर 1 इंफाल, लम्फेलपाट, केन्द्रीय विद्यालय नंबर 2 इंफाल, लंगजिंग, लिटिल फ्लावर स्कूल, लोसंगाई हायर सेकेंडरी पब्लिक स्कूल, डस्टार पब्लिक स्कूल, सेंट पॉल इंग्लिश स्कूल, मणिपुर पब्लिक स्कूल, सेंट जोसेफ स्कूल, हर्बर्ट स्कूल, इत्यादि यहाँ के निम्न स्तरीय शिक्षा हेतु विद्यालय है जो इम्फाल शहर और इसके आस पास स्थित है।

मेडिकल कॉलेज:- इम्फाल शहर में भी मेडिकल कॉलेज को देखा जा सकता है जहाँ चिकित्सक संबंधित कोर्स को करने के लिए दूर दूर से छात्र और छात्राएं आते है। यहाँ प्रमुख रूप से दो मेडिकल कॉलेज है जवाहरलाल नेहरू आयुर्विज्ञान संस्थान और क्षेत्रीय आयुर्विज्ञान संस्थान।

Most Read:- Jharkhand Ki Rajdhani Kya Hai | Capital Of Jharkhand In Hindi

विश्वविद्यालय:- उच्च स्तरीय शिक्षा को प्राप्त करने के लिए इम्फाल शहर में विश्वविद्यालयों की भी व्यवस्था की गई है जहाँ की शिक्षा व्यवस्था अन्य शहरों से काफी अच्छी है। केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय, मणिपुर संस्कृति विश्वविद्यालय, मणिपुर केंद्रीय विश्वविद्यालय, और राष्ट्रीय खेल विश्वविद्यालय यहाँ के प्रसिद्ध विश्वविद्यालय है।

संस्थान:- अन्य शहरों की भांति इस शहर में भी कई संस्थाओं का निर्माण किया गया है। मणिपुर प्रौद्योगिकी संस्थान, मणिपुर तकनीकी विश्वविद्यालय, भारतीय सूचना प्रौद्योगिकी संस्थान, मणिपुर, राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान, मणिपुर, आदि इस शहर के कुछ संस्थायें है।

मणिपुर की शिक्षा पर्यटन स्थल

शहीद मीनार:- यह मीनार इंफाल के पोलोग्राउंड के पूर्वी ओर बीर टिकेंद्रजीत पार्क में स्थित है। शहिद मीनार का निर्माण अंग्रेजों के विरुद्ध 1891 ईस्वी में हुवे युद्ध में मणिपुरी शहीदों के याद में बनाई गई थी। यह स्थान विशेष रूप से फोटोग्राफर के लिए आकर्षण है। यहाँ दूर दूर से कई पर्यटक घूमने के लिए आते है।

श्री गोविंददेव जी मंदिर:- श्री गोविंददेव जी मंदिर वैष्णवों का पावन तीर्थ स्थल है जो मणिपुर के पूर्व शासकों के महल के निकट स्थित है। इस मंदिर का मुख्य देवता श्री राधा-कृष्ण हैं। इसके अंदर ही एक और मंदिर कृष्ण और बलराम का है। दूसरी ओर बलभद्र, जगन्नाथ एवं सुभद्रा के मंदिर हैं। हर एक साल यहाँ दूर दूर से राधा-कृष्ण के भक्त दर्षन हेतु आते है।

युद्ध स्मारक:- इम्फाल का युद्ध स्मारक द्वितीय विश्वयुद्ध में शहीद हुवे सैनिकों के कब्रें और समाधियाँ है।

मणिपुर प्राणी उद्यान इंफाल (Manipur Zoological Gardens Imphal) :- इसकी स्थापना 2 अक्टूबर 1976 को हुई थी। इम्फाल के इस प्राणी उद्यान में करीब 400 सामान्य जाती के पक्षियों और जानवरों को देख जा सकता है और साथ ही इन सभी का कई अन्य दुर्लभ प्रजाति को भी देखा जा सकते है। यहाँ पर 55 अन्य पक्षियों की प्रजातियाँ है जो इस क्षेत्र को मनमोहक और सुगंधित बनाती है। यहाँ का वातावरण काफी आकर्षक है जो यहाँ आने वाले पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करती है।

लंगताबाल:- इम्फाल का लंगताबाल भारत वर्मा सीमा से 6 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

सिंगदा:- इम्फाल शहर से इसकी दूरी करीब 16 मीटर है। यह एक सुंदर पिकनिक स्पॉट है जहाँ अक्सर लोग घूमने और मनोरंजन के लिए आते है। यह स्थान लगभग 921 मीटर ऊंचा है।

कंगला प्लेस:- इम्फाल का कंगला प्लेस को कंगला भी कहा है जिसका अर्थ मैतेई भाषा में “शुष्क भूमि” होता है। कंगला प्लेस यहाँ का राजा पखंगबा का महल था। और इसका निर्माण भी राजा खगेम्बा और उनके पुत्र खुंजाओबा द्वारा किया गया था। इसके परिसर के अंदर मौजूद कई मंदिरों के साथ इसका धार्मिक महत्व भी है।

बिहू लुकोन:-  मणिपुर की राजधानी इम्फाल के पश्चिम जिले के मकलंग में स्थित है। इस किले का निर्माण मिट्टी से किया गया है जिसका आकर एक प्राचीन तारे के समान है। इस किले की खोज सन 2013 ईस्वी में की गई थी। यह काफी प्राचीन किला है।

हियांगथांग लैरेम्बी मंदिर:- इम्फाल का यह मंदिर यहाँ का स्थानीय धर्म, सनमहवाद और हिंदू धर्म दोनों के लिए पूजनीय है। इस मंदिर में प्रत्येक वर्ष दुर्गा पूजा मनाया जाता है जो काफी प्रसिद्ध और आकर्षक है। यह इम्फाल का प्रसिद्ध धार्मिक स्थलों में से एक है। यहाँ पर लोग अक्सर दुर्गा पूजा में लगे मेले को देखने के लिए जाते है।

इमा कीथेल:-  इम्फाल का इमा कीथेल को एशिया में सभी महिलाओं द्वारा संचालित सबसे बड़े बाजार का दर्जा प्राप्त है। इमा कीथेल का अर्थ माताओं का बाजार होता है। इस बाजार मो 16वीं शताब्दी में स्थापित किया गया था।

ऐसे ही मणिपुर की राजधानी इम्फाल में बहुत से पर्यटन स्थल जहाँ पर लोग घुनमने, दर्शन हेतु, और मनोरंजन के लिए आते है।

मणिपुर की शिक्षा यातायात

सड़कमार्ग:- इम्फाल शहर से राष्ट्रीय-राजमार्ग 150 गुजरती है जो इम्फाल शहर को सड़कमार्ग द्वारा कोहिमा, गुवाहाटी, अगरतला, आइजोल, सिलचर और दीमापुर जैसे प्रमुख शहरों से जोड़ती है। सड़कमार्ग द्वारा इम्फाल शहर से कहीं भी पहुंच जा सकता है।

यहाँ का सड़कमार्ग काफी सुरक्षित और सुविधाजनक है। सड़कमार्ग द्वारा इम्फाल अपने निजी वाहन या फिर किसी भी सार्वजनिक वाहन से पहुंच जा सकता है। अन्य बड़े राज्यों की राजधानी के सड़कमार्ग के जैसे ही इम्फाल शहर की सड़कमार्ग भी है जो काफी अच्छी है।

वायुमार्ग:- इम्फाल शहर से करीब 8 किलोमीटर की दूरी पर तुलिहाल अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा स्थित जहाँ से स्थानीय उड़ाने के साथ साथ अंतराष्ट्रीय उड़ाने भी भरी जाती है। महाराजा बीर बिक्रम हवाई अड्डे और लोकप्रिय गोपीनाथ बोरदोलोई हवाई अड्डे के बाद पूर्वी भारत का तीसरा सबसे व्यस्त हवाई अड्डा है।

Most Read:- Bihar Ki Rajdhani Kya Hai | बिहार की राजधानी कहाँ है

यहाँ से एयरएशिया इंडिया एयरलाइन कोलकाता, गुवाहाटी, और दिल्ली तक उड़ाने भर्ती है, एयर इंडिया एयरलाइन वायुमार्ग के द्वारा इम्फाल शहर को दिल्ली, कोलकाता, गुवाहाटी, आइजोल, और दीमापुर जैसे शहरों को जोड़ती है। यहाँ की एलायंस एयर एयरलाइन खास करके गुवाहाटी और दीमापुर के लिए उड़ाने भर्ती है। यहाँ का सबसे अधिक उड़ाने भरने वाली एयरलाइन नील एयरलाइन दिल्ली, गुवाहाटी, कोलकाता, अमदाबाद, बैंगलोर, शिलांग, डिब्रूगढ़, अगरतला जौसे प्रमुख शहरों तक उड़ान भर्ती है।

रेलमार्ग:- इम्फाल एक प्रमुख शहर है और मणिपुर राज्य की राजधानी है फिर भी इम्फाल में अपना कोई रेलवे स्टेशन नहीं है। इस शहर से सबसे करीबी रेलवे स्टेशन दीमापुर जंक्सन है जो इम्फाल शहर से लगभग 215 किलोमीटर की दूरी पर है। यहाँ भी ट्रेनें रोजाना नही चलती है।

Conclusion

आज हम आपको Manipur ki Rajdhani kya hai ये बताये है क्या आपको Manipur ki Rajdhani kya hai यह अच्छे से पता चल गया और इसी आर्टिकल में Manipur ki Rajdhani से रिलेटेड बहुत सारी जानकारी देने की कोसिस किये है इसी लिए यदि यह आर्टिकल आपको पसंद आई होगी तो इसे अपने दोस्तों को जरूर शेएर करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here